जोमैटो डिलीवरी बॉय ने 15 मिनट में पहुंचाई चाय, मिला इतना बड़ा तोहफा.

कोरोनाकाल ने सबको ये तो सीखा दिया है कि मदद से बढ़ कर कुछ नहीं कईयों ने अपने अपने तरीके से लोगों की मदद की है किसी ने किसी को खाने के लिए अन्न दान किया तो किसी ने पैसे दिए कुछ लोगों ने तो खाना न देखे उन्हें कुछ ऐसा काम दे दिया या ऐसा कुछ व्यापार दे दिया जिससे वो खुद के मालिक बन गए हैं ऐसा ही एक मामला इस जोमैटो बॉय के साथ भी हुआ.

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद ने पिछले कुछ महीनों में कई लोगों की मदद की है लेकिन जाहिर है कि वे हर जगह तो नहीं हो सकते हैं तो इस बार उनकी कमी हैदराबाद में रहने वाले शख्स ने पूरी की है. इस शख्स ने जोमैटो के डिलीविरी बॉय को सुपरफास्ट डिलीवरी के लिए नायाब तोहफा दिया जिससे उस डिलीवरी बॉय की अच्छी मदद हो पायी.

दरअसल, हैदराबाद के कोटी क्षेत्र में रहने वाले रॉबिन मुकेश आईटी सेक्टर में काम करते हैं और फिलहाल वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं. उन्होंने फूड डिलीवरी एप जोमैटो से सुबह 10 बजे के आसपास चाय मंगाई थी और उस समय काफी बारिश हो रही थी.

रॉबिन ने एएनआई के साथ बातचीत में कहा- मेरे ऑफिस का टाइम शुरू हो गया था और मैंने जोमैटो से चाय मंगाई थी और मैंने देखा था कि मोहम्मद अकील नाम का डिलीवरी बॉय उस समय मेहदीपटनम में मौजूद है. मुझे अगले 15 मिनट के अंदर इस डिलीवरी बॉय का कॉल आ गया था.

उन्होंने आगे कहा कि मोहम्मद अकील नाम के इस शख्स ने मुझे मेरे अपार्टमेंट के नीचे बुलाया. मैंने देखा कि ये शख्स बारिश होने के चलते पूरी तरह से भीग चुका था. हालांकि, हैरानी की बात ये थी कि वो इतनी दूर से साइकिल पर महज 15 मिनट में पहुंच गया था.

रॉबिन ने आगे कहा कि जब मैंने उससे पूछा कि वो आखिर साइकिल पर इतनी तेजी से कैसे ऑर्डर डिलीवर करने पहुंच गया तो उसने बताया कि वो एक साल से साइकिल पर ही ऑर्डर डिलीवर कर रहा है. मैं उसकी मेहनत और लगन से काफी प्रभावित हुआ और मैंने उसकी मदद करने की ठानी.

रॉबिन ने इसके बाद मोहम्मद अकील से पूछकर उसकी तस्वीर ले ली. रॉबिन को ये भी पता चला कि अकील इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है. रॉबिन ने बताया कि मैंने इसके बाद अकील की तस्वीर डालकर एक फूड एंड ट्रैवल फेसबुक पेज पर पूरी स्टोरी को लिख डाला.

उन्होंने आगे कहा कि ये पोस्ट काफी वायरल होने लगा और कई लोगों के मैसेज आने लगे. कई लोगों ने ये भी कहा कि वे अकील की मदद करना चाहते हैं. अकील से जब इस बारे में पूछा गया तो उसने कहा कि अगर उसे मोटरसाइकिल मिल जाए तो उसकी काफी मदद हो जाएगी.

दरअसल, अकील के पिता स्लिपर और चप्पल बनाने का काम करते हैं लेकिन कोरोना महामारी के कारण उनका काम ठप्प पड़ गया. इसके चलते 21 साल के अकील को घर की जिम्मेदारी उठानी पड़ी. अकील ने कहा कि चाहे कैसा भी मौसम हो, वो रोज साइकिल पर लगभग 80 किलोमीटर यात्रा करता है और दिन के 20 ऑर्डर पहुंचाता है.

रॉबिन ने कहा कि इसके बाद मैंने अकील के लिए फंड रेज करना शुरू किया और मैं ये देखकर हैरान रह गया कि अकील के लिए 73000 रूपये जुटाए जा चुके थे. इनमें से एक महिला जो अमेरिका में रहती हैं उन्होंने अकेले ही 30 हजार रूपयों की राशि डोनेट की थी.

रॉबिन ने कहा कि मेरा पोस्ट इतना वायरल हो रहा था कि उस पर काफी डोनेशन आ रही थी इसलिए उसे बंद कर दिया गया और अकील के लिए एक टीवीएस एक्सएल बाइक खरीदी गई. इसके अलावा कोरोना काल के लिए जरूरी चीजें मसलन मास्क, सैनिटाइजर और हेल्मेट भी उसे मुहैया कराए गए. इसके अलावा बाकी बचे 5 हजार उसकी कॉलेज की फीस के लिए इस्तेमाल किए गए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top