इस आइडिया से धीरूभाई अंबानी बने बिजनेस की दुनिया के बेताज बादशाह, आज है अरबो की सम्पति |

bd l

एक समय था जब धीरूभाई 500 रुपये लेकर घर से निकले थे, लेकिन आज उनके पास करोड़ो की सम्पत्ति है। जानिये इस सफलता के पीछे की कहानी।
हम सभी जानते है की रिलायंस इंडस्ट्रीज की नींव धीरूभाई अंबानी ने रखी थी जिनका 2002 में स्ट्रॉक के चलते निधन हो गया था। लेकिन उनकी यह इंडस्ट्री आज भी उसी गति के साथ आगे बढ़ रही है।
धीरूभाई अंबानी की सफलता की कहानी कठिन है, उन्होने शुरुआती दिन में मात्र 300 की सैलेरी में काम करना शुरू किया था। लेकिन अपनी मेहनत के दम आज करोड़ों अरबो की सम्पत्ति के मालिक बन गए है। आज इनके दोनों बेटे मुकेश अंबानी और अनिल अंबानी सफल बिजनेसमैन के रूप में हमारे सामने है।
धीरूभाई का जन्म
धीरूभाई अंबानी गुजरात के एक छोटे से गांव चोरवाड़ के रहने वाले थे, उनका जन्म 28 दिसंबर 1933 को सौराष्ट्र के जूनागढ़ जिले में हुआ था। उनके पिता एक शिक्षक थे और माता ग्रहणी थी। उनका पूरा नाम धीरजलाल हीराचंद अंबानी था। उनके घर की स्थति ज्यादा ठीक नहीं थी, इसलिए उन्होंने कम समय में ही काम करना शुरु कर दिया था।
जब मिली पहली नौकरी
जब उनकी उम्र 17 साल थी, वह नौकरी करने साल 1949 में अपने भाई रमणिकलाल के पास यमन चले गए। यहां एक पेट्रोल पंप पर 300 रुपये प्रति माह सैलरी की नौकरी करने लगे। कंपनी का नाम था ‘ए. बेस्सी एंड कंपनी’. कंपनी ने धीरूभाई के काम को देखते हुए उन्हें फिलिंग स्टेशन में मैनेजर बना दिया था।
नौकरी करने के कुछ साल बाद 1954 में देश वापस लोट आये और अपने लिए कुछ करने का मन बना लिया। धीरूभाई ने बड़ा आदमी बनने का सपना देखा था, इसके लिए उनके पास उस समय ज्यादा पैसे नहीं थे और वह 500 रुपये लेकर मुंबई के लिए रवाना हो गए |
ऐसे मिला उन्हें एक आइडिया
धीरूभाई अंबानी बाजार को समझने लगे थे, उन्होंने देखा की देश में पोलिस्टर की मांग सबसे ज्यादा है और विदेशों में भारतीय मसालों की इस तरह से उनको पहला आईडिया मिला। उन्होंने दिमाग लगाया और एक कंपनी रिलायंस कॉमर्स कॉरपोरेशन की शुरुआत की, जिसने भारत के मसाले विदेशों में और विदेश का पोलिस्टर भारत में बेचने की शुरुआत कर अच्छा फायदा कमाया।
1 मेज, 3 कुर्सी, 2 सहयोगी से की शुरुआत
शुरुआत में उन्होंने ऑफिस के लिए 350 वर्ग फुट का कमरा लिया जिसमे एक मेज, तीन कुर्सी, दो सहयोगी काम करते थे। यहां पर उन्होंने 10 घंटे तक रोजाना कार्य किया और आज वह देश के सबसे सफल व्यक्ति के रूप में अपनी पहचान बना चुके है। 2000 के दौरान ही अंबानी देश के सबसे रईस व्‍यक्ति की सूचि में अपना नाम दर्ज करवा चुके है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top