UP ATS: आतंकी के घरवालों ने मीडिया पर बोला हमला, जानिए पूरा मामला

a up

लखनऊ से “यूपी ATS” ने अलकायदा के दो आतंकियों को गिरफ्तार किया था। इसके बाद से मामले को समाज के सामने उजागर कर रहे पत्रकारों पर भी खतरा मंडराने लगा है। इसका जीता जागता उदाहरण बुधवार सुबह लखनऊ के वजीरगंज थाना क्षेत्र में देखने को मिला. जहां आतंकियों के साथी की गिरफ्तारी के बाद मामले की कवरेज करने पहुंचे टीवी पत्रकार पर हमला बोल दिया गया। टीवी पत्रकार के साथ मारपीट के साथ ही उसका कैमरा छीनकर उसे तोड़ दिया गया।

शकील को यूपी ATS ने किया गिरफ्तार
रविवार को यूपी एटीएस ने लखनऊ के काकोरी थाना क्षेत्र से अलकायदा के आतंकी मिनहाज और मसीरुद्दीन को विस्फोटक पदार्थों के साथ गिरफ्तार किया था। आतंकियों से हुई पूछताछ में उनके एक साथी शकील का नाम सामने आया। यूपी ATS लगातार शकील के कई ठिकानों पर छापेमारी कर रही थी। बताया जा रहा है कि गिरफ्तार हुए आतंकियों के पास से मिली पिस्टल और चाकुओं को चमनगंज निवासी एक शख्स से खरीदा गया था और यह सौदा शकील ने कराया था। शकील का नाम सामने आते ही यूपी एटीएस की टीम उसकी तलाश में जुट गई थी। जिसके बाद बुधवार सुबह आतंकी गतिविधियों में शामिल शकील को लखनऊ के बुद्धापार्क के पास से गिरफ्तार कर लिया गया। जिसके बाद मामला तूल पकड़ लिया।

शकील के घर पहुंचे मीडियाकर्मी के साथ हुई मारपीट
मामले का पता चलते ही कई मीडियाकर्मियों का तांता लग गया वजीरगंज थाना क्षेत्र स्थित शकील के घर पर. घर के बाहर गली में मीडियाकर्मियों को देखते ही शकील के परिवार समेत पड़ोसियों ने एक टीवी चैनल के पत्रकार तुषार श्रीवास्तव पर हमला कर दिया। उस दौरान पत्रकार के साथ न सिर्फ मारपीट की गई, बल्कि उसका कैमरा छीनकर उसे तोड़ दिया गया। तुषार ने बताया कि शकील के घर वाले न सिर्फ वहां से जाने के आइये कह रहे थे बल्कि बार बार जान से मारने की धमकी भी दे रहे थे।

शकील के परिजन बोले- तुम जानते नहीं हो शकील कौन है
पीड़ित तुषार ने बताया कि शकील के पड़ोसी और भाई लगातार उन्हें आगे देख लेने की धमकी दे रहे थे। इतना ही नहीं, शकील के घर वालों ने टीवी पत्रकार को धमकी देते हुए कहा कि तुम शकील को अभी जानते नहीं हो, वो जब छूट कर आएगा तो तुम्हारे साथ क्या होगा… इसका अंदाजा नहीं है। पीड़ित पत्रकार तुषार का कहना है कि जिस वक्त यह घटना हुई, उस दौरान क्षेत्र में एक भी पुलिसकर्मी मौजूद नहीं था। हालांकि, कुछ समय बाद सूचना पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह मीडियाकर्मी को भीड़ से बाहर निकालते हुए आरोपियों पर कार्रवाई का आश्वासन दिया।

वहीं, मामले को लेकर वजीरगंज थाने के प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि अभी तक घटना को लेकर पीड़ित पत्रकार की ओर से कोई तहरीर नहीं मिली है। तहरीर मिलते ही आरोपियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. और जो भी इसमें संदिग्ध पाया गया उनपर कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top