अमिताभ ही नहीं रणबीर-वरुण संग भी किया काम, अब दाने-दाने को हैं मोहताज कैमरापर्सन सुचिस्मिता , मोमोज बेचकर कर रहीं गुजारा

suchismita

फर्श से फिसल के गिरी कैमरापर्सन सुचिस्मिता।

कहते हैं ना समय कभी कह कर नहीं आता कब किसका बुरा वक्त आ जाये पता नहीं चलता।कोरोना का यह समय तो काफी बेकार रहा। कितने ही लोगों के अपनो के साथ छूट गये तो कितनों की रोजी-रोटी छीन गई। इस कोरोना काल का असर कितने ही रोजगारों पर हुआ। ऐसा ही कुछ हुआ सुचिस्मिता के साथ,सुचिस्मिता एक कैमरापर्सन है। कोरोना की मार फीमेल कैमरापर्सन सुचिस्मिता राउतराय के करियर पर ऐसी पड़ी की कैमरा छोड़कर उन्हें हाथों में कढ़ाई और कल्छी पकड़नी पड़ी।दाने-दाने को मोहताज सुचिस्मिता आज मोमोज बेचकर घर चला रही है।

कोरोना की मार कितने को किया बेहाल

साल 2020 को शायद ही लोग कभी भूल पाएंगे. कोरोना वायरस (Coronavirus) ने लोगों से न सिर्फ उनके अपनों को छीना बल्कि कई लोगों के सपनों को भी छीन लिया।फीमेल कैमरापर्सन सुचिस्मिता राउतराय अपने कुछ सपने लेकर मुम्बई आयी थी पर इस कोरोना काल ने उनके सपनों को छीन लिया। अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन, रणबीर कपूर, आलिया भट्ट और वरुण धवन जैसे कई स्टार्स के साथ काम कर चुकीं, सुचिस्मिता अपने सपनों को लेकर वापस अपने घर पहुंच गई हैं, जहां आज परिवार का पेट पालने के लिए वह मोमोज बेचकर गुजारा कर रही हैं।

अबला क्या करे

सर पर पिता का साया ना होने के कारण उनकी लाइफ में मोमोज बेचकर गुज़ारा करने के अलावा कोई विकल्प नहीं था।
कभी बड़ी-बड़ी फिल्मों में कैमरे के पीछे अपना हुनर दिखाने वालीं सुचिस्मिता अब मोमोज बेच कर रोज के 300-400 रुपये कमा रही हैं।उनकी मानें तो लॉकडाउन से पहले उनकी जिंदगी पटरी पर चल रही थी।काम भी मिल रहा था और नए अवसर भी आते दिख रहे थे। लेकिन एक वायरस ने उनकी जिंदगी को रोशन होने से पहले ही अंधकार में डाल दिया।

सुचिस्मिता पढ़ाई पूरी करने के बाद ओडिया फिल्म इंडस्ट्री में काम करने लगी थी।साल 2015 में मुंबई आ गई। काम लोगों को पसंद आया तो बॉलीवुड में काम मिलने लगा।6 साल तक असिस्टेंट कैमरा पर्सन के रूप में काम किया, लेकिन फिर कोरोना ने सब कुछ बदल दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top