ऐसी बदली किश्मत की 150 की नौकरी से 1.5 करोड़ की लग्जरी कार और 500 करोड़ से ज्यादा संपत्ति

मेहनत करने वालों की कभी हार नहीं होती और किस्मत भी उन्हीं का साथ देता है जो अपनी मदद खुद करते हैं और इस कहावत को सच कर दिखाया मध्यप्रदेश के कटला में जन्मे राहुल तनेजा ने जिन्होंने ₹150 में साइकिल मैकेनिक का काम करते हुए कभी यह नहीं सोचा था कि 1 दिन उनकी किस्मत पलटेगी और वह ₹150 की नौकरी से 1.5 करोड़ की गाड़ी तक पहुंच जाएंगी।

मेहनत करने वालों की कभी हार नहीं होती और किस्मत भी उन्हीं का साथ देता है जो अपनी मदद खुद करते हैं और इस कहावत को सच कर दिखाया मध्यप्रदेश के कटला में जन्मे राहुल तनेजा ने जिन्होंने ₹150 में साइकिल मैकेनिक का काम करते हुए कभी यह नहीं सोचा था कि 1 दिन उनकी किस्मत पलटेगी और वह ₹150 की नौकरी से 1.5 करोड़ की गाड़ी तक पहुंच जाएंगी।

लेकिन जब आप अपनी मदद खुद करते हैं तो ईश्वर भी आपके पीछे अपना हाथ लगा देता है और जिसकी बदौलत आप वह कर गुजरते हैं जिसे आपने भी कभी सपने में नहीं सोचा होगा और ऐसा ही कर गुजरे राहुल तरेजा साइकिल मैकेनिक से 1.5 करोड़ की लग्जरी कार का मालिक होने के बाद 16 लाख रुपए देकर गाड़ी का वीआईपी नंबर लिया।

राहुल ने 11 साल की उम्र में नौकरी करनी शुरू की
1984 में राहुल परिवार के साथ जयपुर रहने लगे उनके पिताजी पंचर बनाने का काम करते थे और राहुल बचपन से ही बड़ा आदमी बनने की ख्वाहिश रखते थे। इस ख्वाहिश के चलते उन्होंने 11 साल की उम्र में ही काम करना शुरु कर दिया।

राहुल एक ढाबे पर मात्र ₹150 की नौकरी करना शुरू किए उन्होंने नौकरी के साथ-साथ अपनी पढ़ाई भी जारी रखें। वे जयपुर के आदर्श विद्या मंदिर से पढ़ाई की उनके पास पढ़ने के लिए किताबें तो नहीं थी लेकिन वह दोस्तों से कॉपी और किताब मांग कर पढ़ाई करते और 12वीं कक्षा में उन्होंने 82% प्रतिशत प्राप्त किया।

अखबार बेचें, ऑटो चलाएं और ढाबे पर बर्तन भी मांजे
आर्थिक स्थिति के चलते राहुल ने 2 सालों तक ढाबे पर बर्तन मांजने का भी काम किया इसके साथ ही उन्होंने दिवाली पर पटाखे बेचने होली पर रंग बेचने, न्यूज़पेपर बांटने जैसे काम भी किये। अपने परिवार की आर्थिक स्थिति की वजह से उन्होंने ऑटो भी चलाया जिससे पिताजी की कुछ मदद हो सके, हालात तो बद से बदतर थे लेकिन राहुल ने कभी हार नहीं मानी।

राहुल बने 1998 में फैशन शो के विजेता
राहुल की आर्थिक स्थिति कितनी भी तंग हो लेकिन वह अपने फिटनेस से कोई समझौता नहीं करते थे। जब वह कॉलेज पढ़ने जाते थे तो उनके दोस्त उनके फिटनेस से काफी प्रभावित हुआ करते थे और वे उन्हें मॉडलिंग करने की सलाह भी दिया करते थे। दोस्तों की यही सलाह काम आए और उन्होंने मॉडलिंग करना शुरू कर दिया मॉडलिंग के दौरान विनायक में जयपुर में आयोजित एक फैशन शो में भाग लिया और अपनी काबिलियत से इस फैशन शो के प्रथम विजेता बने। राहुल को बहुत से विज्ञापनों के ऑफर आने लगे और उनकी सफलता की कहानी शुरू होने लगी। इसके बाद राहुल अपने राज्य से बाहर निकलकर भी फैशन शो का हिस्सा बनने लगे।

इवेंट मैनेजमेंट कंपनी खोली
मॉडलिंग के 1 साल बाद बीत जाने के बाद राहुल ने खुद की इवेंट कंपनी खोलकर शो ऑर्गेनाइजेशन करने का काम शुरू किया और कुछ ही दिनों में अपनी इवेंट मैनेजमेंट कंपनी की ओपनिंग की और इस कंपनी की लागत आज करोड़ों रुपए है।

राहुल ने 1.5 करोड़ की कार खरीदी और 16 लाख का नंबर प्लेट लगवाया
राहुल ने 25 मार्च के दिन 1.5 करोड़ की लग्जरी कार खरीदी और उन्होंने 16 लाख रुपए का वीआईपी नंबर प्लेट लगवाया। इस नंबर प्लेट का नंबर है। RJ 45 CG 0001
आपकी मेहनत तभी रंग लाती है जब आप अपनी काबिलियत पर विश्वास करते हुई निडर होकर मुसीबतों सामना करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top