जानिए ऐसा क्या किया यूएई में बसे भारतीय उद्योगपति ने जिसका पूरी दुनिया में महिलाएं तारीफ कर रही है।

भारतीय केवल भारत में ही नहीं विश्व के किसी भी देश में रहे हैं वह अपने कार्य से अपना ही नहीं अपने देश का भी नाम रोशन करते हैं ऐसे ही एक भारतीय व्यापारी ने दहेज प्रथा के खिलाफ बेहद सख्त गाइडलाइन तैयार की जो कंपनी के सभी कर्मचारियों पर लागू होगी। इस 10 पॉइंट के गाइडलाइन के तहत अगर कंपनी का कर्मचारी दहेज लेन-देन में पाया जाता है तो उसे नौकरी से निकाल दिया जाएगा।

UAE स्थित भारतीय उद्योगपति का नाम सोहन रॉय है जो शारजाह स्थित कंपनी एराइज ग्रुप के सीईओ हैं और उन्होंने इसी साल मार्च महीने में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर इस नियम की घोषणा की है। इस नियम को औपचारिक रूप से इसी हफ्ते एंपलॉयर कॉन्ट्रैक्ट में शामिल किया गया है। सोहन रॉय 16 देशों में अपना कारोबार चलाते हैं और यह तो लड़कियों के पिता हैं। सोहन राय ने कहा कि यह नियम भारतीयों के साथ-साथ अन्य सभी कर्मचारियों पर लागू होगा सोहन रॉय ने आगे बताया कि यह दुनिया में पहली बार है जब किसी संस्था ने दहेज विरोधी नीति को रोजगार कांटेक्ट में शामिल किया।

केरल के रहने वाले समुदाय ने कहा कि दहेज संस्कृति को पूरी तरह से खत्म करना तो बहुत मुश्किल है लेकिन हां मुश्किलों में ही रास्ता ढूंढना हम भारतीयों को बखूबी आता है उनका समूह अपने कर्मचारियों के बीच इस प्रथा को खत्म करने के लिए सब कुछ करेगा कंपनी के नियमों के मुताबिक जो स्टाफ भविष्य में दहेज लेन-देन में शामिल पाया जाएगा उसे नौकरी से हटा दिया जाएगा उन्होंने बताया कि कंपनी की नई नीति में यह भी शामिल है कि कंपनी के किसी भी कर्मचारी द्वारा पत्नियों या माता-पिता के किसी भी प्रकार के उत्पीड़न कुछ सेवा की समाप्ति कानूनी उपायों के अधीन उल्लंघन माना जाएगा और इसके खिलाफ उचित कार्रवाई हो सकती है या फिर नौकरी से भी हाथ धोना पड़ सकता है।

एलाइंस ग्रुप में दहेज विरोधी सेल का गठन किया है जिसमें ज्यादातर महिलाओं को शामिल किया गया है अभियान के लक्ष्य को पूरा करने के लिए 2023 की समय सीमा तय की गई है। 23 जून को केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने एक के बाद एक कई घोषणाएं की हैं। जैसे कि एक समाज के रूप में हमें पारंपरिक विवाह प्रणाली में सुधार करने की आवश्यकता है विवाह परिवार और सामाजिक स्थिति और धन का एक दिखावा नहीं होना चाहिए। माता पिता ने यह महसूस किया है कि दहेज प्रथा हमारी बेटों को वस्तु के रूप में नीचा दिखाती है हमें उनके साथ बेहतर व्यवहार करना चाहिए। व भारतीय कारोबारी सोहन रॉय की दहेज विरोधी इस पहल की हम दुनिया की सभी महिला दिल स्वागत की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top