बीवी की मौजूदगी में पति ने रचाई साली से शादी, जाने कैसे राज़ी हुई पत्नी

gg

आप तो जानते हैं कि हिन्दू धर्म मे एक पत्नी के होते हुए दूसरी शादी नहीं कि जा सकती लेकिन ये कलयुग है यहां सबकुछ मुमकिन है मान के बहुत सारी बातों पर यकीन भी कर लिया जाता है। ऐसी बहुत सी नामुमकिन बातों को मुमकिन में बदल दिया जाता है। सिर्फ ये कह कर की कलयुग का ज़माना है लेकिन एक बात समझ मे नहीं आती की ये महाशय अपनी पहली बीवी को कैसे मनाएं होंगे दूसरी बीवी से शादी करने के लिए और वो भी उसकी अपनी साली से ही?

दरअसल 26 नवंबर को भिंड में एक ऐसी शादी हुई जिसे देखजर वहां मौजूद हर शख्स हैरान रह गया. शादी के स्टेज पर दुल्हन तो दो थी लेकिन दुल्हा एक ही था. दरअसल भिंड जिला मेहगांव जनपद के गुदावली गांव निवासी सरपंच दीपू परिहार ने ये गज़ब का कारनामा कर दिखाया हैं. इन महाशय ने अपनी पत्नी की मौजूदगी में ही उसकी चचेरी बहन यानी शख्स की साली से शादी रचा ली. इतना ही नहीं अपनी साली को वरमाला पहनने के साथ-साथ दीपू ने अपनी पहली बीवी के गले में भी हार डाला. इस तरह उसने एक साथ दो दुल्हनों से विवाह रचा लिया. अब ये शादी पुरे इलाके में चर्चा का विषय बनी हुई हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि दीपू की पहली शादी से तीन बच्चे भी हैं. इनमे सबसे बड़े बेटे की उम्र 9 साल हैं जबकि दो बेटियों की उम्र 7 और 5 साल हैं. चुकी हिंदू धर्म में इस तरह का दूसरा विवाह करने की इजाजत नहीं हैं इसलिए सभी लोग इस शादी को लेकर हैरान भी हैं. अब आप सभी भी यही सोच रहे होंगे कि आखिर इस शख्स ने अपनी बीवी को साली से शादी करने के लिए कैसे मना लिया होगा? तो चलिए इस राज़ पर से भी पर्दा उठाए देते हैं.

तो इस वजह से की दूसरी शादी

दरअसल सरपंच साहब का कहना हैं कि उनकी पहली बीवी अक्सर बीमार रहती हैं. ऐसे में उनके बच्चों की ठीक से देखभाल नहीं हो पाती हैं. यही वजह हैं कि उन्होंने अपनी पत्नी की रजामंदी से ही उनकी चाचेरी साली से शादी रचा ली. साथ ही उन्होंने इस बात का भी ख्याल रखा कि पुरे शादी महारोह में उनकी पहली पत्नी भी दुल्हन बनकर प्रक्रिया और अन्य रस्मों का हिस्सा बने.

और ऐसा ही हुआ जैसा दोनो दुल्हन चाहती थी हालांकि जब बात मजबूरी में बदल जाये तो हर चीज़ मुमकिन हो जाती है जैसे यहाँ हुआ। देखते ही देखते सरपंच साहब का ये कारनामा वहां के साथ साथ सोशल मीडिया पर भी आग की तरह फैल गया लाखों लोग ये जानने के लिए बेताब हो गए कि ऐसा सरपंच साहब ने कैसे और क्यों कर लिया. आप का क्या कहना है सरपंच साहब के इस कारनामे पर हमें कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं हमें आपके जवाब का इंतेज़ार रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top