Knowledge- जेल अंदर से कैसा होता है? अंदर की जिंदगी कैसी होती है? जाने पूरी जानकारी

jel

एक जेल कैसा होता है आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताएंगे की जेल की जिंदगी के बारे में बात करेंगे, अंदर की जिंदगी कैसी होती है, और जेल के अंदर सभी कैदीयो के साथ कैसा व्यवहार रखा जाता है। जेल के अंदर किस-किस तरह की सुविधाएं एक कैदी को दी जाती है।

जेल शब्द सुनने में जितना ज़्यादा छोटा है असल में जेल अंदर से उतना ही ज़्यादा बड़ा होता है। और उसके अंदर कई सारी सुविधाएं होती हैं, और जो भी जेल में जाता है उन सभी से काम करवाया जाता है। जिसके बदले उसे खाना-पीना मिलता है। जेल राज्य सरकार के अधीन काम करता है। जेल के अंदर की जो पुलिस होती है वो बाकी साधारण पुलिस से काफी अलग होती है।

 

1- कैदी को उसका नंबर कब दिया जाता है-
शुरुआत में जब एक नया कैदी आता है उस वक्त उसे नंबर नहीं देते अगर उसकी सजा लम्बे दिन की होती है तो ही उन्हें एक नंबर दिया जाता है जिसके बाद उस नंबर से ही उस कैदी की पहचान होती है.

अगर कोई बहुत बड़ा क्राइम करके आता है या फिर उसे काफी ज्यादा दिनो तक की सजा होती है। तभी उसे उसका नंबर दिया जाता है‌ जानकारी के लिए बता दें की 10 से 15 दिन या फिर कुछ दिन की सजा में आने वाले कैदियों को कोई भी नंबर नहीं मिलता है।

जेल में भी कई अलग-अलग जगह होती है। जहां पर अलग-अलग कैदियों को रखा जाता है, जैसे कि अगर कोई ज़्यादा खतरनाक कैदी होता है, तो उसे सबसे अलग रखा जाता है, और छोटी सजा वाले कैदी को अलग जगह रखा जाता है। सभी को अपनी एक जगह मिली होती है जहाँ वो रहते हैं।

2- कैदी के खाने पे खर्च कितना होता है?-

जेल में एक कैदी के खाने के ऊपर कितने पैसे खर्च हो जाते हैं। इनमे सभी अलग जगह के अलग-अलग नियम होते हैं‌। और अगर हम अपने भारत देश की बात करें, तो यहां एक कैदी के ऊपर 1 दिन में लगभग 52- 70 रू का खर्च आता है। यह सब उस जेल के मेनू के हिसाब से तय किया जाता है।

3- जेल के अंदर कैदीयो को कौन से समय नाश्ता दिया जाता है?
आपके जानकारी के लिए बता दें की, जेल में कैदी को सुबह 7 बजे नाश्ता दिया जाता है।

4- जेल का अस्पताल कैसा होता है?

जेल का अस्पताल काफी साधारण होता है और उसमे सिर्फ छोटी-मोटी बीमारी का ही इलाज किया जाता है। बड़ी बीमारी के लिए कैदियों को पुलिस की निगरानी में जिला चिकित्सालय ले जाया जाता है। कई लोगों को जेल में बना खाना काफी ज़्यादा पसंद आता है इसलिए जब वो आते हैं तो काफी दुबले-पतले आते हैं लेकिन यहाँ से वापस जाते समय बहुत ही मोटे हो जाते हैं.

5- कैदी से मिलने का वक्त कोन सा होता है?

किसी भी कैदी से मिलने के लिए सभी जेल में एक वक्त दिया गया है अगर किसी भी इंसान को उस कैदी से अगर मिलना है तो उसे उस दिए गए समय में ही मिलना पड़ेगा नहीं तो वो नहीं मिल सकते किसी भी कैदी से मिलने का समय होता है सुबह 10 बजे से 3 बजे तक।

6- किसी कैदी को अगर कुछ खरीदना हो तो वो कहाँ से खरीदेगा?

अगर किसी कैदी को कोई भी खाने की चीज़ या उसके ज़रूरत की वस्तु चाहिए होती है तो जेल में एक कैंटीन भी होता जहाँ से सभी कैदी पैसे दे कर अपने ज़रूरत की चीज़ो को खरीद सकते हैं।

7- क्या कैदियों के घर वाले उसे पैसे और खाना भेज सकते है?

जी बिलकुल कैदी के घर वाले अगर चाहे तो जेल में उसे खाने की चीज़े या पैसे जिससे वो अंदर कुछ खरीद सके ले जा के दे सकते हैं। कई कैदियों के घर वाले उनके लिए खाना भेजते है लेकिन रोजाना आप ऐसा नहीं कर सकते है ये जेल के नियम के खिलाफ होगा हफ्ते में 2 या 3 बार कैदी को खाना पहुचा सकते हैं।

8- फांसी सुबह में ही क्यों दी जाती है?

फांसी सुबह में देने की कई सारी वजह है सुबह में फ़ासी देने का वक्त इसलिए दिया गया है क्योकि शुरुरात से ये समय सभी जेल को निर्धारित रूप से बता दिया गया है की फ़ासी का समय सिर्फ सुबह ही होता है। समय से कैदी के घर वालों को कैदी की डेडबॉडी दे दी जाए ताकि अंतिम संस्कार समय से हो सके। इसकी और भी कई वजह है।

9- फांसी के समय कौन-कौन मौजूद रहता है?
फांसी देने के समय वहाँ के जिलाअधिकारी मौजूद रहते हैं साथ में जेलर रहता है और उन सभी के साथ एक डॉक्टर और फांसी देने वाला जल्लाद वहाँ मौजूद रहता है.

10- फांसी के वक्त कैदी के चेहरे पे काला कपड़ा क्यों पहनाया जाता है?

फ़ासी के समय उस कैदी के चेहरे पे एक काला कपड़ा पहना दिया जाता है जिससे की फ़ासी देने वाला उस कैदी का चेहरा नहीं देख पाता और फांसी देने के समय कैदी के कानो में जल्लाद बोलता है की मुझे माफ़ करना अपने काम के आगे मजबूर हूँ हिन्दू को राम राम मुस्लिम को सलाम जिसके बाद उसे फांसी दे दी जाती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top