गूगल ने प्ले स्टोरेज से हटाए यह 9 ऐप , जाने क्या है वजह…

g p st

गूगल ने प्ले स्टोरेज से हटाएंगे 9 ऐप आप का महत्वपूर्ण डाटा चोरी कर रहा था। शोधकर्ताओं के अनुसार उन्होंने चुपके से फेसबुक लॉगिन क्रैडेंशियल चुरा ली हैं यह ऐप रोजमर्रा के उपयोग होने वाले टूल की तरह ही लगते हैं इनमें रबिश (Rubbish Cleaner)और Horoscope Daily भी शामिल है।

ऐप गूगल प्ले स्टोर पर लगभग 5.9 मिलियन संयुक्त डाउनलोड थे जबकि अकेले वीआईपी फोटो के साथ 5.8 एलियन डाउनलोड फ्री गूगल ने इससे पहले नियम के उल्लंघन को लेकर बच्चों के लिए बनी 3 ऐप को हटा दिया।

डॉक्टर वेब एक एंटीवायरस सर्विस की रिपोर्ट कहती है कि वेलफेयर विश्लेषकों ने 9 संदेहास्पद ऐप की खोज की जिसमें Processing Photo, App Lock Keep, Rubbish Cleaner, Horoscope Daily, Horoscope Pi, App Lock Manager, Lockit Master, Inwell Fitness, and PIP Photo ऐप्स शामिल है।

यूजर्स को अपने सोशल मीडिया अकाउंट के माध्यम से लॉगिन करके विज्ञापनों को डिसेबल करने का विकल्प प्रदान करने के बाद यूजर्स सबके फेसबुक लॉगइन क्रैडेंशियल्स को चुरा लिया।

अपने फेसबुक के लॉगिन पेज की हूबहू नकल दिखाकर यूजर्स को धोखा दिया। इसके अलावा अपने एक जावास्क्रिप्ट ओं कमांड लोड किया जिसने उनके लॉगइन क्रैडेंशियल्स को चुरा लिया। स्पष्ट रूप से अथॉरिटी जेशन सेशन नेम ब्राउजर कुकीज भी चुरा लिया ।यूसर्स का डाटा चोरी करने के लिए सामान जावास्क्रिप्ट कोड का उपयोग किया।रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि मेल वेयर वैरीअंट ने तीन देसी एंड्राइड एप्प और दो गूगल के फ्लटर एसडीके का उपयोग करके बनाया गया था।

गूगल के प्रवक्ता ने Ars Technica को बताया कि उन्होंने गूगल प्ले स्टोर (Google Play store) से सभी नौ एप डेवलपर्स पर भी प्रतिबंध लगा दिया है। जो इस डेवलेपर पर अकाउंट को बाजार में कोई भी नया प्रकाशित करने से रोक सके।गूगल ने एक सकारात्मक कदम उठाने के साथ-साथ अलग नाम के तहत एक नया डेवलेपर पर खाता $25 के मामले शुल्क के साथ बनाया जा रहा है।

गूगल ने यूज़र को सलाह दी है कि वे किसी अज्ञात डेवलेपर से कोई ऐप डाउनलोड ना करें भले ही कितने भी डाउनलोडर्स हो इस मामले में वीआईपी फोटो को अधिकतम 5. 8 मिलियन डाउनलोड मिले हैं।किसी भी यूजर ने भी इस ऐप को डाउनलोड किया है उसे संदिग्ध गतिविधियों के लिए अपने डिवाइस और फेसबुक अकाउंट की अच्छी तरह जांच करवानी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top