कई रोग के लिए रामबाण साबित होता है ,गेंदे का फूल

genda

आप पुष्पों को जानते ही होंगे ऐसा ही एक फूल गेंदा (Marigold or Genga) के फूल के कई नाम हैं। देश भर में लोग गेंदा को गुल्तोरा, कलग, लालमुरुगा, हजारा, मखमली आदि नामों से भी जानते हैं। गेंदा के पीले-पीले फूल लगभग हर घर में पाए जाते हैं। इसकी अनेक प्रकार की प्रजातियां भी है ।

(1) हजारा (इसका फूल बड़ा होता है)

(2) सुरनाई

(3) कौकहान (लाल और पीले रंग के दलचक्र वाला)

यह जितना खूबसूरत होता है , सुगंधित होता है ।उतना ही यह आपके शरीर के लिए फायदेमंद भी होता है। आयुर्वेद के अनुसार, गेंदा के कई सारे औषधीय गुण हैं, और यह एक जड़ी-बूटी भी है। जो की एक ऐसा फूल है जो की कितने बीमारियों के लिए रामबाण इलाज का काम करता है।

गेंदे का फूल बहुत सुगन्धित है जिसके सुगंध और सुंदरता के लिए अत्यधिक पसंद करते है । इसकी खेती में भारत सबसे अधिक पैदावार होती है  ।

आइये जानते है इसकी खाशियत ।

  1. गेंदे के फूल का इस्तेमाल एंटी-बायोटीक के रूप में किया जाता है.
  2. गेंदे के फूल में कई ऐसे एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं. जो आंखों से जुड़ी कई तरह की बीमारियों में फायदेमंद साबित होते हैं.
  3. गेंदे के फूल से नेचुरल कलर भी तैयार किया जाता है
  4.  गेंदे के फूल में कई ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो अल्सर और घाव को ठीक करने में मददगार होते हैं
  5. गेंदा कटु, कषाय, तिक्त, शीत, लघु, रूक्ष और कफपित्तशामक होता है।
  6. गेंदा के पत्ते के रस को आंखों के बाहर चारों तरफ लगाने से भी आंखों के रोग में लाभ होता है।

इसके विभिन्न प्रकार के उपयोगो के साथ साथ पूजा पाठ में भी अत्यधिक इस्तेमाल किया जाता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top