पिता को लेकर दर-दर भटकते रहे थे, Virat Kohli, डॉक्‍टरों ने नहीं खोला था दरवाजा।

vi p

सभी के जीवन में कभी न कभी मुसीबतों जरूर आती है, जो एक समय के बाद नहीं रहती है। लेकिन उसकी यादे हमेशा जुडी रहित है, उसी तरह क्रिकेटर विराट कोहली की जिंदगी का एक हिस्सा बहुत दर्दनाक रहा, जिसमे उन्होंने छोटी उम्र में ही अपने पिता को खो दिया। अपने पिता को बचाने के लिए कोहली ने कई प्रयास किये लेकिन उस समय उनकी किसी ने मदद नहीं की थी। इस बात को खुद विराट कोहली (Virat Kohli) ने शेयर किया है। जानिये पूरी बात क्या है।

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) अपने खेल के जज्बे की वजह से बड़े-बड़े रिकॉर्ड अपने नाम कर चुके हैं, लेकन उनके जीवन में भी एक हिस्सा बहुत दर्दनाक रहा, जब उन्होंने छोटी उम्र में ही अपने पिता को खोना पड़ा था। एक इंटरव्यू के दौरान विराट कोहली ने अपने जीवन के सबसे दुख भरे पल का खुलासा किया था, जिसमे उन्होंने एमी पुरस्कार विजेता पत्रकार ग्राहम बेनसिंगर को इंटरव्यू दिया था। कोहली ने पिता की मौत के दौरान अपनी स्थति को बताया था।

कोहली के पिता का ब्रेन स्ट्रोक की वजह से निधन हो गया था      Virat Kohli posts an unseen pic with his father; shares an important  message on Father's Day

बात उस समय की है, जब विराट की उम्र कम थी। 19 दिसंबर 2006 को विराट कोहली के पिता प्रेम कोहली (Prem Kohli) का 54 साल की उम्र में ब्रेन स्ट्रोक हुआ था जिसके कारण उनका निधन होगया। जब उनके पिता की मृत्यु हुई थी तब उनकी उम्र 18 साल के करीब थी। वह दिल्ली में रणजी ट्रॉफी में खेल रहे थे, जिसमे वह कर्नाटक के खिलाफ खेल रहे थे। उन्होंने अपने मैच को खत्म किया और पिता के अंतिम संस्कार में शामिल हुए।

डॉक्‍टरों ने मदद के लिए नहीं खोला दरवाजा

कोहली ने बताया कि जब उनके पिता बीमार हुए और वह आखरी साँस ले रहे थे, तब आसपास के डॉक्‍टरों के यहां गए, लेकिन किसी ने उस समय मदद के लिए दरवाजा नहीं खोला था। फिर हम उन्‍हें बड़े अस्‍पताल लेकर गए लेकिन दुर्भाग्‍य से डॉक्‍टर उन्‍हें बचा नहीं पाए और उनकी मृत्यु हो गयी। परिवार के सभी लोग टूट गए। पिता की मौत ने उनकी जिंदगी पर सबसे ज्‍यादा असर डाला था, जिससे वह काफी प्रभावित हुए थे।

तकलीफों के बावजूद बेस्ट बल्लेबाज बने कोहली

पिता की मौत ने उन्हें बुरे समय का सामना करना सिखाया, और उसके साथ उन्होंने सभी परिस्थितियों में अपने आप को मजबूती से बनाये रखा। और आज वह एक साफ बल्लेबाज के रूप में देश का नाम रोशन कर रहे है। उनके पिता का भी यही सपना था की वह एक दिन बड़ा क्रिकेटर बने। कोहली ने बताया की सचिन उनके बचपन के हीरो हैं और वह भी उनके जैसा बनाना चाहते थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top