दिलीप कुमार के जवाब को सुनकर क्यों उनसे दूर हुई मधुबाला…

GGTGGGG

अपने जमाने की बेहद ही मशहूर अभिनेत्री मधुबाला जिन्हें देखकर हर कोई उन्हें पाने की ख्वाहिश रखता था। हर कोई चाहता था कि उनकी शादी मधुबाला से हो जाए लेकिन मधुबाला के कंधों पर माता-पिता और 11 भाई बहनों की जिम्मेदारी थी। पिता लाहौर की इंपीरियल टोबैको कंपनी में काम कर रहे थे लेकिन नौकरी से उस घर का गुजारा नहीं हो पा रहा था जिसकी वजह से बेटी को लेकर मुंबई आ गए।

काफी प्रयासों के बाद मधुबाला को फिल्मों में काम मिला और धीरे-धीरे लोग मधुबाला को काफी पसंद करने लगे।उस समय दिलीप कुमार और मधुबाला की जोड़ी को सिल्वर स्क्रीन पर दर्शकों ने खूब पसंद किया। 1951 में फिल्म तराना की शूटिंग के दौरान पहली बार मधुबाला और दिलीप कुमार के मुलाकात हुई। मुलाकात धीरे-धीरे दोस्ती में और फिर मोहब्बत में बदली। मधुबाला ने सबसे पहले अपने दिल की बात दिलीप कुमार को बताएई। 4 साल तक दोनों अपने रिश्ते को छिपा कर रखा फिर 1955 में इंसानियत के प्रीमियम के दौरान दिलीप और मधुबाला ने अपने रिश्ते को सबके सामने कबूला। लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था और कुछ ऐसा हुआ जिसके कारण इन दोनों की राहें हमेशा-हमेशा के लिए अलग हो गई।

एक्ट्रेस के पिता अत्ताउल्लाह खान को बिल्कुल पसंद नहीं आई कि उनकी बेटी दिलीप कुमार से संबंध रखें क्योंकि मधुबाला ही एकमात्र ऐसी व्यक्ति थी जो उनके घर के खर्च को चलाती थी। और वह नहीं चाहते थे कि वह शादी करके किसी दूसरे शहर में या दूसरे घर में चली जाए।

1957 में एक फिल्म आई नया दौर इस फिल्म में मधुबाला और दिलीप कुमार काम कर रहे थे फिल्म की शूटिंग के लिए एमपी जाना था लेकिन मधुबाला के पिता दिलीप कुमार के साथ जाने के लिए राजी नहीं थे। जिसके कारण फिल्ममेकर बी आर चोपड़ा ने मधुबाला की जगह वैजयंती माला को साइन कर लिया।

बी आर चोपड़ा मधुबाला से बेहद खफा थे। ऐसे में उन्होंने एक्ट्रेस के खिलाफ केस भी किया। वहीं मधुबाला के खिलाफ गवाही देने के लिए जब दिलीप कुमार सामने आए तो एक्ट्रेस का दिल टूट गया हालांकि बाद में बात थोड़ी संभल गई। वही दिलीप कुमार मधुबाला के पास वापस चले आए लेकिन अब मधुबाला को दिलीप कुमार पर गुस्सा था कि उन्होंने कोर्ट में उनके खिलाफ गवाही दी।बीच

मधुबाला की छोटी बहन मधुर भूषण ने एक इंटरव्यू में बताया कि अब्बा को लगता था कि दिलीप कुमार साहब उम्र में हमसे बड़े हैं और बहुत सुंदर लगते थे। अब्बा कहते थे कि बेटा रहने दो अभी तुम बहुत छोटी हो लेकिन वह नहीं सुनती थी उन्होंने दिलीप कुमार को प्यार करना नहीं छोड़ा। फिल्म नया दौर को लेकर केस हुआ उससे बहुत गलतफहमियां हो गई थी। इसके बाद भी दिलीप कुमार साहब घर आए और उन्होंने कहा कि छोड़ो यह सब चलो फिर से दोस्त बनते हैं और शादी कर लेते हैं। तब मधुबाला ने कहा हां कर लेंगे शादी जरूर करेंगे लेकिन मेरे पिता को सॉरी बोल दो इस बात पर पिता दिलीप कुमार अड़ गए कि वह सॉरी नहीं बोलेंगे।

मधुबाला ने कहा अकेले में सॉरी बोल दो गले लग जाओ लेकिन दिलीप कुमार ने यह करने से इंकार कर दिया। मधुबाला ने कहा अगर आप मेरे पिता के लिए यह नहीं कर सकते तो ठीक है इसके बाद दिलीप कुमार और मधुबाला की राहें अलग हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top