क्यों लगानी पड़ी थी देवानंद के काले कोट पहनने पर पाबंदी? जाने |

deva b

अभिनय के कलाकार बॉलिवुड के मशहूर अभिनेता देवानंद ने करीब 60 सालो तक बॉलीवुड पर राज किया | बॉलीवुड में अभिनेता आये गए, लेकिन कोई देवानंद की टक्कर का नहीं था, अपने समय के सबसे बेहतरीन एक्टर मे से एक थे, देवनद के उस समय लोग बहुत ज्यादा फैन थे | उनके फेन्स उनकी एक झलक पाने के लिए उत्सुक रहते थे और उनके लिए कुछ भी करने को तयार थे।

देवानंद के अंदाज़ के दीवाने लोग      when Dev Anand wearing black coat girls became uncontrollable | जन्मदिन :  देव आनंद के काला कोट पहनने पर बेकाबू हो जाती थीं लड़कियां

उनके समय में देवानंद फैशन आइकॉन मने जाते थे फिल्मो में उनके लुक्स को लेकर जलवा था | वैसे तो देवानंद डायलॉग डिलेवरी के लिए फेमस थे, लेकिन उन्होंने हर चीज में सुर्खिया बटोरी थी पर उसमे से सबसे ज्यादा था उनका काला कोट और और उसे पहनने का अंदाज .इसे उन्होंने सबसे पहले ” काला पानी” में  व्हाइट शर्ट और ब्लैक कोट को पहना था और तभी से वे इतना पॉपुलर हो गए की  कि लोग उनको कॉपी करने लग गए थे | लेकिन एक ऐसा टाइम आया की उन्हें पब्लिक प्लेस में काला कोट पहनने पर रोक लगनी पड़ी |

आखिर क्यों लड़कियां छत से कूद पड़ती थीं

लड़कियां उनकी इतनी बड़ी फैन थी की उनको काले कोट में देखने के लिए लड़किया कुछ भी करने को तैयार थी आपको यह सुनकर हैरानी होगी की लड़कियां उनको काले कोट में देखने के लिए छत से कूद पड़ती थी | दुनिया उनकी स्टाइलिश लुक की दीवानी थी

कोर्ट को काले कोट पर लगानी पड़ी पाबंदी    Did Dev Anand's black coat took many girls life? find out how

देवानंद के काले कोट के कारण लड़कियां की दीवानगी के कारण कोर्ट को इस मांमले में कोर्ट को दखल देनी पड़ी और कोर्ट के द्वारा उनके काले कोट को पहनने पर रोक लगनी पड़ी थी | ऐसा पहली बार हुआ था की किसी अभिनेता के पहनावे पर कोर्ट को फैसला सुनना पड़ा

आपको बता दें की ‘हम एक हैं| फिल्म से सन 1946 में देवानंद ने अपने करियर की शुरुआत | लेकिन वह फिल्म नहीं चल पाई | उसके बाद सन 1948 की ‘जिद्दी” फिल्म ने उन्हें सुपरस्टार बना दिया |

इसके आलावा देवानंद की ऐसी कई कहानियां मशहूर है ये सब बातें जानकर आप भी उनके बड़े फैन हो जायेंगे |

  • देवानंद सेना के सेंसर कार्यालय में कार्य करते थे | 165 रु प्रति महीना के हिसाब से उनको वेतन मिलता था |
  • अशोक कुमार की फिल्में ‘अछूत कन्या’ और ‘किस्मत’ को देखकर उन्होंने एक्टिंग करने का सोचा था |
  • उनको हल्की रोशनी पसंद थी। उनके ऑफिस का नाम पैंटहाउस था जो मुंबई के पाली हिल, बांद्रा में था |
  • उनके ऑफिस में किताब और स्क्रिप्ट्स का एक बड़ा कलेक्शन था | जमीं से लेकर छत तक किताबे थी |

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top