150 की नौकरी करने से लेकर 1.5 करोड़ की कार तक का सफर, कभी ढाबे पर काम करते थे राहुल जाने पूरी कहानी |

h v

दोस्तों जिंदगी में आपको एक बार जरूर मेहनत करनी होती है, इसके बलबुते पर कोई भी इंसान बड़ा बन सकता है। आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति की कहानी बताने जा रहे है, जो 150 की नौकरी से 1.5 करोड़ की कार का मालिक बन गया है। जानिये कौन है, यह।
मध्यप्रदेश के कटला में जन्में राहुल तनेजा 18 साल पहले एक ढाबे पर मात्र 150 रुपये की नौकरी करते थे, जिसके बाद उन्हें अपने दोस्तों की सलाह पर अपने खुद के काम करके आगे बढ़ने की सोच रखी और आज 1.5 करोड़ की गाड़ी के लिए 16 लाख की नंबर प्लेट खरीदी है, यह कहानी सुच है, आज राहुल ने अपनी लग्जरी कार के लिए 16 लाख का आरजे 45 सीजी 001 नंबर खरीदा है। हम आपको इनकी पूरी कहानी के बारे में बताते है।

tyrepuncture
150 में नौकरी की, ढाबे पर काम किया
राहुल तनेजा अपने इस इंसान का नाम सुना होगा, नहीं सुना तो में आपको बता देता हु यह एक ऐसा वक्ती हे जिसके पास पहले कुछ भी नहीं था पढाई करने के भी पैसे नहीं थे, इनके पिता पंचर जोड़ते थे तो उन पैसे से केवल दो वक्त का खाना ही ये खा सकते थे | लेकिन राहुल तनेजा ने अपनी पढाई के लिए एक ढाबे पर काम किया यह मधयप्रदेश के जयपुर में अपनी पढ़ाई को पूरा करने के लिए गए थे, लेकिन इसके पास पढाई करने के पैसे नहीं थे, तो इन्होने नौकरी की वह 150 रुपए महीने की और अपनी पढ़ाई की |

Rahul Taneja
इन्होने पहले ढाबे पर काम किया उसके बाद में स्टेज प्रोग्राम में डांसर के पैसे डांस किया और धीरे – धीरे अपनी ही इवेंट मैनेजमेंट कंपनी खोली और आज इनका नाम टॉप अरब पति की लिस्ट में आता है |
दोस्तों ने दी मॉडलिंग करने की सलाह
1998 में इन्हें वह रास्ता दिखा जिससे इनकी लाइफ बन गयी। राहुल अपनी फिटनेस पर भी पूरा ध्यान देते अच्छी लुक को देखते हुए इनके दोस्तों ने इन्हें मॉडलिंग करने की सलाह दी | राहुल ने भी उनकी सलाह मान कर मॉडलिंग शुरू कर दी और फिर इन्हें इसका चस्का सा लग गया | इसी दौरान इन्होंने एक फैशन शो में भाग ले लिया. किस्मत अच्छी रही तथा 1998 में राहुल जयपुर क्लब द्वारा आयोजित एक फैशन शो में विजेता चुन लिए गए | इसके बाद इन्होंने 8 महीने तक फैशन शो किए. फैशन शो करने के साथ साथ राहुल इस बात पर भी नजर जमाए रखते थे कि ये शो ऑर्गेनाइज कैसे होते हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top