ऑपरेशन 100 करोड़: ‘9 लाख में 2 लाख कमिश्नर का होता था’, खुफिया कैमरे पर बार मैनेजर का खुलासा।

PARAMBEER

स्टिंग ऑपरेशन के दौरान हमारा एक ही टारगेट था पुलिस कैसे अवैध वसूली रैकेट चलाती है?इस स्टिंग ऑपरेशन का उद्देश्य 100 करोड़ की वसूली के आरोप की तह तक जाकर पता लगाना ।

20 मार्च 2021 को पूरे देश में सनसनी फैलाने वाली एक चिट्ठी जिसको लिखा गया था मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह द्वारा उनका आरोप था महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर ।

पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह का कहना था कि गृहमंत्री द्वारा हर महीने डांस बार और पब से 100 करोड़ रूपए की वसूली का टारगेट दिया जाता था। इस आरोप के बाद महाराष्ट्र की सियासत में भूचाल आ गया। मुंबई पुलिस में खलबली मच गई। क्या वाकई मुंबई पुलिस हर महीने 100 करोड़ रुपए की वसूली करती है?क्या API सचिन वाजे वसूली गैंग का लीडर है?इन्हीं आरोपों और सवालों का सच जानने के लिए टीवी9 भारतवर्ष ने ऑपरेशन 100 करोड़ का आगाज किया।

अंडरकवर रिपोर्टर्स को भी इस मामले की जांच के लिए लगाया गया। इसी मामले की जांच के लिए टीवी9 भारतवर्ष की स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम मुंबई के लिए रवाना हो गई।बहुत सावधानी से टीवी-9 भारतवर्ष की टीम अपने खुफिया कैमरे के साथ मुंबई के हर उस इलाके में पहुंचकर हर उस डांस बार, पब में दाखिल हुई। जो अपनी नाइट लाइफ के लिए मशहूर हैं।जो पुलिस की कमाई का जरिया हैं।स्टिंग ऑपरेशन के दौरान हमारा एक ही टारगेट था, 100 करोड़ की वसूली के आरोप की तह तक जाकर पता लगाना कि पुलिस कैसे अवैध वसूली रैकेट चलाती है?

इस इन्वेस्टिगेशन में रूबी बार के मैंनेजर द्वारा एक बड़ा खुलासा सामने आया इसमें कहा गया। टोटल हम लोगों का 9 लाख का हिसाब आ रहा था।मतलब सीपी का 2 लाख छोड़ो, 7 बोलो तो उसमें सब आ गया बीट वालों का, ख़बरी लोगों का और दूसरा एक्साइज़ का और एसएस ब्रांच फिलहाल बंद है।

फिर अभी और कम हो जाएगा।7 के हिसाब में नाइट चार्ज भी आ गया। पीआई को 5 हज़ार, बीट ऑफिसर को 2 हजार, दूसरे स्टाफ को 2, उसके बाद 8-9 हज़ार जाता है। वो सब मिला के हम लोगों को 7 लाख औसत हो गया।7 में भी जैसे अब एसएस ब्रांच का बंद हो गया तो एवरेज 5 का भी आ जाएगा। फिर भी आप 6 मान के चलो. सीपी ने 2 -2 लाख लिया।”यह पूछने पर कि सीपी कौन तो बार मैनेजर ने कहा, “हां परमबीर सर की बात कर रहा हूं।

एक बार मालिक ने बताया कि हर महीने छह लाख रुपये पुलिस पर खर्च होते हैं।बार मालिक ने कहा, “खबरी लोगों का डेढ़-दो लाख जाएगा।5 लाख साल का आपको लाइसेंस फीस भरना है।50 हज़ार रूपये टैक्स भरना है। बाकी इनका अलग।हर दिन आपका 40 हज़ार का धंधा होना चाहिए तभी फायदा होगा।
टीवी9 भारतवर्ष ने इस आरोप पर पूर्व कमिश्नर परमबीर का पक्ष जानने के लिए उनसे संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया।अब उन पर लगे आरोपों की हकीकत क्या है, ये बात या तो परमबीर सिंह बता सकते हैं या फिर जांच एजेंसियां। टीवी9 भारतवर्ष फिलहाल इस आरोप की पुष्टि नहीं कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top