वाराणसी से मिर्जापुर तक गंगा का पानी हरा होने के कारणों का खुलासा, जांच टीम ने तैयार की रिपोर्ट.

पिछले दिनों गंगा नदी का पानी हरा होने के कारण वाराणसी के जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए एक जांच कमेटी बनाई थी जो पानी के हरे होने के पीछे के रहस्य को पता लगाने में जुटे थे,

वाराणसी में गंगा का पानी हरा होने के कारण का खुलासा हो गया है। पहले से ही बताया जा रहा था कि शैवाल के कारण गंगा का पानी हरा हो रहा है। लेकिन यह शैवाल अचानक कहां से आ रहा है, इसे लेकर मंथन हो रहा था। डीएम की ओर से बनी टीम ने जांच की तो पता चला कि विंध्याचल के एसटीपी से शैवाल बहकर आ रहे हैं। पांच सदस्यीय जांच कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में इसका खुलासा किया है। टीम ने रिपोर्ट तैयार कर ली है। शुक्रवार को जिलाधिकारी को सौंपने की बात कही जा रही है।

जांच में पता चला है कि विंध्याचल में पुरानी तकनीक से बने एसटीपी से यह शैवाल बहकर वाराणसी आ रहे हैं। पिछले दिनों हुई बरसात में इनकी संख्या काफी ज्यादा थी। इसकी रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी और जिम्मेदारों पर कार्रवाई के लिए भी लिखा जाएगा। जलस्तर कम होने और प्रवाह नहीं होने से शैवाल की समस्या गंभीर हो गई है। जलस्तर बढ़ने के साथ ही यह समस्या दूर हो जाएगी।

बता दें कि गंगा नदी में हरे शैवाल की मात्रा अचानक बढ़ गई थी। घटना के बाद काशीवासियों सहित वैज्ञानिकों के माथे पर चिंता की लकीरें बढ़ गई थीं। पिछली बार भी मिर्जापुर के पास से लोहिया नदी से ये शैवाल गंगा में आए थे। शैवालों के कारण गंगा का इकोसिस्टम पर संकट खड़ा हो गया है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की प्राथमिक जांच में भी यह बात सामने आई थी कि गंगाजल में नाइट्रोजन और फास्फोरस की मात्रा निर्धारित मानकों से ज्यादा हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top